परिचय

जिला मुख्यालय से इस पंचायत की दूरी 4 किमी है ऐतिहासिक दृष्टि से यह पंचायत बहुत ही महत्वपूर्ण है धुमनगर पंचायत में ही एक कचहरी टोला है। पुराने जमाने के समय यहां कचहरी लगता था, और आपसी मुकदमों का निपटारा यही पर हो जाता था। राम जानकी मठ- यह मठ सैकड़ों वर्ष पुराना मठ है। वहां पर रामनवमी के अवसर मेला लगता है। अंग्रेज के जमाने में इस मठ का देख-रेख करने वाले बाबा रामशरण दास जी थे। अंग्रेज दंपत्ति निसंता थे, बाबा उन्हें एक बेल प्रसाद के रूप में दिया। ईश्वर की कृपा से उनकी मुरादे पूरी हुई तथा उनका गोद भर गया। स्थानीय लोगों का बहुत महत्वपूर्ण आस्था का यह मठ है।